ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए !

ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए !


नमस्कार दोस्तों  हमारे देश आज  हर तीसरा आदमी आज हाई ब्लड प्रेशर  से ग्रसित है यानि कि है तीसरा आदमी को हाई और लो ब्लड प्रेसर  से परेशान है या फिर बो उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप) क्यों ना हो 













तो दोस्तों आज कोई भी बीमारी हो उस में भी  हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है और ये भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में है बड़ती ही जा  रही है तो आज मै आप को बताऊंगा कि ये समस्या होती क्यों है और क्या कारण है कैसे हम इस प्रोब्लम से बच सकते है  



हाई ब्लड प्रेशर रक्तचाप के दो घटक हैं:





  1. सिस्टोलिक दबाव शीर्ष नंबर है। यह उस दबाव का प्रतिनिधित्व करता है जब हृदय शरीर के बाकी हिस्सों में रक्त पंप करने के लिए धड़कता है।
  2. डायस्टोलिक दबाव नीचे की संख्या है। यह दिल की धड़कन के बीच रक्त वाहिकाओं में दबाव को संदर्भित करता है।


ब्लड प्रेशर को पारे के मिलीमीटर (मिमी एचजी) में मापा जाता है। इसलिए रक्तचाप को व्यक्त किया जाएगा, उदाहरण के लिए, 120/80 मिमी एचजी के रूप में।

उच्च रक्तचाप का निदान तब किया जाता है जब इनमें से एक या दोनों संख्या बहुत अधिक होती है। उच्च रक्तचाप को उच्च रक्तचाप भी कहा जाता है।

दशकों तक, उच्च रक्तचाप को 140/90 मिमी एचजी के रूप में परिभाषित किया गया था। नवंबर, 2017 में, नए संयुक्त राज्य अमेरिका के दिशानिर्देशों ने हालत का निदान करने के लिए सीमा को कम कर दिया। नए दिशानिर्देशों के अनुसार, 130/80 मिमी एचजी या उच्चतर पढ़ने वाले किसी व्यक्ति को रक्तचाप होता है। इस नई परिभाषा के आधार पर, लगभग एक चोथाई अब इस समूह में आते हैं।

रक्तचाप अब निम्नानुसार वर्गीकृत किया गया है:


  • सामान्य: 120/80 मिमी से कम एचजी
  •  उच्च ऊंचाई: 120/80 से 129/79 मिमी एचजी
  • स्टेज 1 उच्च रक्तचाप: 130/80 से 139/89 मिमी एचजी
  • स्टेज 2 उच्च रक्तचाप: 140/90 मिमी एचजी और ऊपर



हालांकि उच्च रक्तचाप सिरदर्द और तेज़ दिल की धड़कन जैसे लक्षण पैदा कर सकता है, यह अक्सर कोई लक्षण नहीं होता है।

तो उच्च रक्तचाप के बारे में चिंता क्यों करें? क्योंकि जब उच्च रक्तचाप कोई लक्षण पैदा नहीं कर रहा होता है, तब भी यह चुपचाप कई अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है, जिसमें निम्न शामिल हैं:


  1. दिमाग
  2. आंखें
  3. दिल
  4. गुर्दे
  5. पूरे शरीर में धमनियां


आप उस नुकसान को नहीं पहचान सकते हैं जो चुप उच्च रक्तचाप आपके शरीर को कर रहा है जब तक आप अचानक एक बड़ी बीमारी से त्रस्त नहीं होते हैं। उदाहरण के लिए, उच्च रक्तचाप से आपके दिल का दौरा, स्ट्रोक और गुर्दे की विफलता का खतरा बढ़ जाता है।

ब्लड प्रेशर उच्च रक्तचाप को रोकने के लिए:



  1.  तनावपूर्ण मानसिक तनाव जो हम दिन भर किसी न किसी बात पर सोचते रहेते है और परेशान रहते है जिस के कारण हमारा ब्लड प्रेशर नार्मल हाई ब्लड प्रेशर बना ही रहा है।
  2.  दूसरा कारण है कम नीद आना बहूत से लोग गहरी नीद नहीं आता है और रात को भी सोते समय कुछ न कुछ सोनतेते है वह है
  3.  तीसरा कारण है जो जो हम अच्छा खाना नहीं खाते और बहार का खाना खाते रहेते है ज्यादा तेलिय खाना खाते रहते है जिसमें नमक में ज्यादा डले रहे है।
  4. अगर आप खाने में बहूत ज्यादा नमक का इस्तेमाल करते हैं तो आप को हाई ब्लड प्रेशर की प्रोब्लम हो सकती है




क्या है उपाय जिस से आप इसे कंट्रोल कर सकते है 


   

  1.  रोज सुबह-  सुबह 10 से 20 मिनट्स पैदल चले और ब्यायाम करे
  2.  पानी खूब पिए और कम से कम 2 से 4 लीटर पानी रोज पिए दोस्तों पानी पीने से हमारा मेटाबोलिजम रेट    नार्मल रहता है 
  3. यदि धूम्रपान करते हो तो बिलकुल बंद कर दीजिये 
  4. खाने में नमक का प्रयोग कम कर देना चाहिये 
  5. भोजन में पोटेशियम युक्त चीजे बडाये जैसे -ताजे फल         




ह 

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.