बुखार क्यों आता है ! भुखार हमें क्यों होता है !






बुखार क्यों आता है ! भुखार हमें क्यों होता है !





नमस्कार दोस्तों बुखार क्या है भुखार हमें क्यों होता है आज हम इसी के बारे में बात करूँगा और बताऊंगा कुच्छ कारण और लक्षण जिससे आप समझ सकते है कि की बुखार हमे क्यों आता है।



बुखार क्यों आता है







दोस्तों भुखार कोई बीमारी नहीं है यह एक लक्षण है बुखार हमारे इम्यून सिस्टम का एक पार्ट होता है जब हमारे शरीर के अंदर बैक्टेरिया या जीवाणु चले जाते  है तो हमारा शरीर उनसे लड़ता है जिसके बाद हमें महसूस होता है कि हमें बुखार हुआ है  शरीर में इन्फेक्शन हुआ है।





दोस्तों हमारे बॉडी का टेम्प्रेचर 37.5 से लेकर 38.3 डिग्री सेंटीग्रेट होना चाहिये अगर हमारे बॉडी का तापमान 100.9 F या 101 F से ऊपर चला जाता है फ़ारेनहाइट में  तो इस कंडीसन को हम भुखार बोलते है।


बुखार क्यों आता है ! भुखार हमें क्यों होता है !



हालाँकि की इस में अभी भी बहेस चलती रहती है कि नार्मल बॉडी टेम्प्रेचर कितना होना चाहिये लेकिन बहुत से  अध्यन और किताबो में लिखा रहता है कि नार्मल बॉडी  टेम्प्रेचर 99.8 F नार्मल बॉडी टेम्प्रेचर होता है और ये डिपेंड करता है कि आप कहाँ से बॉडी टेम्प्रेचर नाप रहे है।





अगर आप रेक्टम यानि गुदाद्वार से थर्मामीटर के थ्रू नाप रहें है तो 99.5 F से ज्यादा है तो हम इसको भुखार बोलते है अगर आप मुह से टेम्प्रेचर नाप रहे है तो 99.9 F से ज्यादा  टेम्प्रेचर है तो इसको हम बुखार बोलते है अगर आप एग्गजिला यानि बगल से टेम्प्रेचर नाप रहे है तो 99 F से ऊपर टेम्प्रेचर है तो इसको हम बुखार बोलते है।   



तो आप को समझ में आ गया होगा कि हम बुखार को कैसे नाप सकते है




बुखार  के   प्रकार.....




  • बुखार कई प्रकार के होते है और बो डिपेंड करता है आप को कौन सी बीमारी है जैसे कि continuous fever लगातार आपकी बॉडी का टेम्प्रेचर बड़ा हुआ हो और जो बॉडी टेम्प्रेचर है 1 D सेंटीग्रेट ऊपर निचे ना जाये अगर बो 1 D सेंटीग्रेट से ऊपर निचे नहीं जाता है तो उसे हम continuous fever  बोलते है और ज्यादातर ये टाइफाइड, निमोनिया,मेनिनजाइटिस कि कंडीसन में होता है।
  • दूसरा टाइप है intermittent fever मतलब टेम्प्रेचर एक दम से बड़ेगा उसके बाद बना रहेगा और एक दम से नीचे चला आयेगा और ये कंडीसन मलेरिया, कालाजार फीवर में होता है। 
  • तीसरा प्रकार है remittent fever और इस में बुखार बना रहता है लेकिन 1 D सेंटीग्रेट से ज्यादा ऊपर निचे होता होता है infective endocarditis के केश में देखने को मिलता है। 
  • अगर बुखार 104 F से ज्यादा हो और 104 F से लेकर 106 F तक जाता है तो हम इसे hiperpireksia fever बोलते है और ये एक मेडिकल  इमरजेंसी है और तुरंत डॉक्टर के पास जरूर जाना चाहिये।

बुखार क्यों आता है ! भुखार हमें क्यों होता है !



तो दोस्तों अगर आपको बुखार चढ़ गया है तो सबसे ज्यादा जो जरूरी चीज होती है की आप को कौन सी बीमारी है जिस कारण आप को बुखार हुआ है। 





इसको जानने के लिए दो तरह से जान सकते है पहला लक्षण और दूसरा जो आप लैव टेस्ट कराते है मतलब आप लक्षण को जान कर महसूस करके जान सकते है की आप को कौन सा भुखार हुआ है किसके आलबा अगर आप नहीं जान सकते की हमें कौन सा भुखार है इसके लिए आप लैव टेस्ट करा सकते है  

और आप लक्षण और लैब टेस्ट कराके दवा ले गें तो आप का बुखार जल्द से जल्द ठीक हो जायेगा 




तो ये थी जानकारी कि हमें बुखार  क्यों होता है आशा करता हु कि ये जानकारी आप को पसंद आई होगी...


r77 होम्योपैथिक मेडिसिन
zika virus in india in hindi
कमर दर्द का होम्योपैथिक इलाज़
धुन्दला दिखाई देना,एक आंख से धुंधला दिखना
मोतियाबिंद का होम्योपैथिक इलाज़,उपचार
बबासीर में परहेज, क्या खाना चाहिये क्या नहीं


कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.