Abroma Augusta in Hindi (अबरोमा अगस्टा)



Abroma Augusta in hindi (अबरोमा अगस्टा)


Abroma Augusta in Hindi (अबरोमा अगस्टा)




परिचय-
एब्रोमा आगस्टा औषधि अनिद्रा रोग, नासूर, मधुमेह, मूत्र रोग, कमजोरी, मानसिक कमजोरी तथा अन्नसारमेह (एल्बुमीनिरिया) रोगों को ठीक करने में बहुत उपयोगी है।



एब्रोमा आगस्टा औषधि निम्नलिखित लक्षणों के रोगियों के रोग को ठीक करने में उपयोगी हैं-





भूख से सम्बन्धित लक्षण


अस्वाभाविक भूख (किसी ऐसे समय पर भूख लगना जिस समय पर भूख नहीं लगना चाहिए।) जैसे- भरपेट भोजन करने के तुरन्त बाद भी भूख लग जाना और खाना खा लेना। इस लक्षण से पीड़ित रोगी का उपचार करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि बहुत उपयोगी है।



आमाशय से सम्बन्धित लक्षण


भूख महसूस होने के साथ बेहोशी जैसा अनुभव होना, कई प्रकार का भोजन करने की इच्छा होना, पेट के अन्दर खालीपन महसूस होना। इस प्रकार के लक्षण से पीड़ित रोगी का इलाज करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि लाभदायक होती है।



पेट से सम्बन्धित लक्षण


आध्मान (फ्लेट्युलेंस) अर्थात पेट के फूलने पर एब्रोमा आगस्टा औषधि का उपयोग लाभदायक है।



मल से सम्बन्धित लक्षण


कब्ज रोग, काला मल होना, गांठदार मल होना, ढेलेदार मल होना, शौच क्रिया में बहुत तेज जोर लगाने के बाद मल निकलना। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी के इलाज के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि उपयोगी है।





मूत्र से सम्बन्धित लक्षण


दिन-रात अधिक मात्रा में पेशाब होना, पेशाब करने के लिए बार-बार जाना, मुंह का सुखना, अधिक प्यास लगना, पेशाब करने के बाद पानी पीने की इच्छा करना, पेशाब करने के बाद थकान महसूस होना, पेशाब से मछली जैसी बदबू आना, पेशाब हल्का तैलीय होना, मधुमेह रोग होना, रात के समय में बिस्तर पर पेशाब हो जाना, लिंग के ऊपरी भाग (लिंग के मुख) पर सफेद रंग का घाव हो जाना, यह पेशाब में अधिक मात्रा में शर्करा हो जाने के कारण होता है तथा पेशाब करने में असमर्थ होना (इनबिलिटी टू रिटैंन युरीन)। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी का उपचार करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि लाभदायक है।


मन से सम्बन्धित लक्षण


रोगी का स्वभाव चिड़चिड़ा हो, उत्तेजनशील स्वभाव वाला हो, भद्दा मजाक करने वाला हो, याददास्त कमजोर हो, हताश, निराश, धैर्य की क्षमता कम होना तथा अपने स्वभाव को बदलने में असमर्थ होना। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी का उपचार करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि लाभकारी है।



हृदय से सम्बन्धित लक्षण


हृदय में कमजोरी आना, धड़कन की गति तेज होना तथा बेहोशी जैसा अनुभव होना। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी का उपचार के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि बहुत उपयोगी है।



चर्म रोग से सम्बन्धित लक्षण


खुजली, जलन, गर्मियों में छोटे-छोटे फोड़े, नासूर तथा सूखी त्वचा को ठीक करने में एब्रोमा आगस्टा औषधि लाभदायक है।



श्वास संस्थान से सम्बन्धित लक्षण


खांसी के साथ पीब जैसा बलगम निकलना, छाती में दर्द होना, सफेद या पीला ढेलेदार थूक, ठण्डी हवा से लक्षणों में और तेजी होना, शाम तथा रात के समय में लक्षणों में तेजी होना तथा खांसते समय छाती में दर्द होना। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि बहुत उपयोगी है।



गर्दन तथा पीठ और शरीर के बाहरी अंगों से सम्बन्धित लक्षण

गर्दन, पीठ तथा शरीर के बाहरी अंगों में हल्का-हल्का दर्द होना, अंगों में कमजोरी होना तथा गुर्दे में दर्द होना। इन लक्षणों से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए एब्रोमा आगस्टा औषधि बहुत उपयोगी है।


कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.