r1 homeopathic medicine in hindi


r1 homeopathic medicine in hindi नमस्कार दोस्तों आज मैं आपको एक्यूट और क्रॉनिक इन्फ्लेमेशन की जर्मन होम्योपैथिक मेडिसिन बताऊंगा
लगभग 60 परसेंट बीमारियों के पीछे इनफ्लामेसन ही होता है

 जैसे कि टॉन्सिलइटिस जैसे कि फैरिंजाइटिस जैसे कि लैरिंजाइटिस जैसे कि सालपिनजाइटिस जैसे कि ब्रोंकाइटिस टॉन्सिलाइटिस मतलब टॉन्सिल में इन्फ्लेमेशन हो जाना वहां पर सूजन आ जाना आप दर्द महसूस होना और हल्की सी जलन महसूस होना साथ ही साथ फैरिंजाइटिस मतलब फैरिंस में इन्फ्लामेसन हो जाना वहां पर सूजन होना वहां पर दर्द होना फिर उसके बाद लैरिंजाइटिस मतलब इसमें

r1 homeopathic medicine in hindi


इन्फ्लामेसन  होना वहां पर सूजन होना वहां पर दर्द होना तो दोस्तों बीमारियां अलग-अलग कारणों से होती है लेकिन उन कारणों के कारण इन्फ्लेमेशन होता है जैसे कि अगर आप बहुत खाना और खराब खाना खाते हैं तो आपके पेट में इन्फ्लेमेशन हो जाता है जिसको हम गैस्ट्राइटिस भी बोलते आमतौर पर तो यह दो तरह के हो सकते एक होता है

 एक्यूट गैस्ट्राइटिस और एक होता है क्रॉनिक गैस्ट्राइटिस एक्यूट का मतलब है तुरंत मतलब जैसे आपने खाना खाया और खराब खाना खाए जिसमे बैक्टीरिया बहुत ज्यादा तो आपके पेट में गया और पेट में गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम हुई और उसको हम आमतौर पर फ़ूड पॉइज़निंग बोलते हैं दोस्तों और एक होता है क्रॉनिक गैस्ट्राइटिस जिसमें आप हमेशा तेल मसाला मिर्ची खाते रहते और जिसके कारण  धीरे धीरे पेट में इन्फेक्शन और इंफॉर्मेशन होता रहता है और क्रॉनिक इन्फ्लेमेशन हो जाता है उसको हम क्रॉनिक गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम बोलते हैं

r1 homeopathic medicine in hindi


इसमें आप जब खाना खाते हैं तो जलन महसूस होती है दर्द महसूस होती है और पेट में सूजन महसूस होती है तो दोस्त अगर हमारे शरीर में कहीं भी इंफ्लामेसन होता है तो उस जगह के नाम के पीछे आर्टिस्ट लगा रहता है  दोस्तों इन्फ्लेमेशन जब होता है जब कभी कीटाणु जीवाणु या कभी हमें चोट लग जाए या हम कभी बहुत ज्यादा ऐसी चीजें खाएं जो हमारे लिए हानिकारक हो तो वहां पर  धीरे धीरे इंफ्लामेसन होना चालू हो जाता है और हमें कुछ लक्षण महसूस होते हैं


दोस्तों इन लक्षण में सबसे आम लक्षण है दर्द तो जहां पर भी इंफ्लामेसन होगा वहां पर हमें दर्द महसूस होगा दूसरा लक्षण है गर्मी तो जहां पर भी हमें इंफ्लामेसन होगा वहां पर हमें गर्मी महसूस होगी मतलब अगर पेट में इन्फेक्शन हुआ है इंफ्रा में गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम है तो पेट में जलन और पेट में गर्मी महसूस होगी उसके साथ जहां पर भी यह इंफ्लामेसन होता है वहां पर लालपन मतलब रेडनेस दिखाई देती है और सूजन भी हो जाती है

r1 homeopathic medicine in hindi


अब बात करते है होमियोपैथी में कौन सी मेडिसिन है इन सभी समस्याओं के लिये तो इस मेडिसिन का नाम है R1 dr reckeweg inflammations drop जो इन सभी समस्याओं में बहुत इफ्फेक्टिव है

r1 homeopathic medicine in hindi

तो जानते है इस R1 ड्राप को यूज कैसे करना है
अगर आप को एक्यूट इंफ्लामेशन है तो ये समस्या r1 लेने के बाद 4 से 5 दिन में पूरी तरह से ठीक हो जाती है इसे 2 से 4 दिन तक हर एक घंटे में पीजिये ये समस्या दूर हो जाएगी 10 बूँद एक चौथाई कप पानी मे दिन में 5 से 6 बार लीजिये।


इस के अलाबा अगर आप की समस्या क्रोनिक है तो आप को एक चौथाई पानी मे 10 से 15 बूँद दिन में तीन बार सुबह दोपहर और शाम को लगभग तीन से चार महीनों तक लेंगे तो अगर आप को क्रोनिक इंफ्लामेशन कि समस्या बो भी ठीक हो जाएगी।


कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.